शुक्रवार, 23 सितंबर 2011

अब इंटरनेट पर मगही ई-पत्रिका

अब इंटरनेट पर मगही ई-पत्रिका

Sep 23, 08:34 pm

हिसुआ (नवादा), निज प्रतिनिधि : मगही ई-पत्रिका मगही भाषा के विकास में मील का पत्थर साबित होगा। शुक्रवार को ई-पत्रिका के लोकार्पण के अवसर पर उपस्थित कवि व साहित्यकारों ने उक्त बातें कही। मगही कवि उदय भारती के नगर स्थित आवास पर आयोजित लोकार्पण समारोह में वक्ताओं ने कहा कि इंटरनेट पर मगही पत्रिका आने से मगही के विकास में नयी पीढ़ी के लोगों का योगदान होगा। प्रचार-प्रसार होने से लोगों की मगही बोलने के प्रति जो झेंप है वह समाप्त होगा। मगही भाषी लोग भी अपने आप को गौरवान्वित महसूस करेंगे। इस अवसर पर मगही ई पत्रिका को इंटरनेट पर लांच करने वाले कवि उदय भारती ने कहा कि मगही प्रदेश के नवादा, गया, औरंगाबाद, जहानाबाद, अरवल, नालंदा, शेखपुरा व राजधानी पटना में अधिकाधिक लोगों द्वारा बोली जाती है। परन्तु लोग मगही को घर में ही सिमटा दिये हैं। जरुरत है कि बाहर भी जायें तो मगही में ही बात करें। उन्होंने कहा कि ई-पत्रिका प्रकाशित करने का उद्देश्य मगही का विकास है। इंटरनेट के माध्यम से जन-जन तक मगही पहुंच सकेगा। इस अवसर पर बीडीओ सच्चिदानंद प्रसाद, सीओ शैलेश कच्छप, टीएस कालेज के प्राचार्य सुनील कुमार, प्रो.मनु जी राय, प्रो. जयनंदन प्रसाद सिंह, पंकज प्रवीण, शफी जानी, आलोक कुमार, सुनील कुमार, शिवेन्दु आदि लोग उपस्थित थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता कवि दीनबन्धु तथा संचालन मिथलेश कुमार सिन्हा ने किया।
http://in.jagran.yahoo.com/news/local/bihar/4_4_8257955.html

मगही की इ पत्रिका का हुआ लोकार्पण

नवादा : दिनकर जयंती के अवसर पर हिंदी मगही साहित्यिक मंच शब्द साधक के तत्वावधान में मगही की इ पत्रिका का लोकार्पण पांचू गढ़ स्थित शब्द साधक कार्यालय में किया गया. इसका उद्घाटन टीएस कॉलेज के प्राचार्य सुनील सुमन ने किया. वहीं समारोह की अध्यक्षता मगही विद्वान दीनबंधु व मंच का संचालन मिथिलेश कुमार सिन्हा ने किया.
मुख्य अतिथि बीडीओ सच्चिदानंद सिन्हा एवं विशिष्ट अतिथि के रूप में सीओ शैलेश कच्छप उपस्थित थे. वक्ताओं ने मगही पत्रिका के इंटरनेट पर लांच होने से मगही के बेहतर प्रचार-प्रसार की बात कही. नयी पीढ़ी को पत्रिका से मगही साहित्य को पढ़ने की रुचि जगेगी.
मगही मन भावना इ पत्रिका को मगही की पहली पत्रिका के रूप में लांच होने पर मगही साहित्य प्रेमियों ने इसे काफी खुशी जतायी है. इस पत्रिका को मगही मनभावन डायरेक्ट गुगल पर सर्च कर पढ़ा जा सकता है.
संपादक व लांचकर्ता व्यंग्यकार उदय भारती ने पत्रिका को मासिक रूप से प्रकाशन की बात कही. इस मौके पर प्रो डॉ मनुजी राय, प्रो शिवेंद्र नारायण सिंह, उपेंद्र पथिक, प्रो जयनंदन, प्रो जगत प्रसाद, सफी जानी नांदा, अरुण देवरसी, डॉ संजय समेत क्षेत्र के मगही साहित्यकार व पत्रकार उपस्थित थे.

1 टिप्पणी:

  1. उदय भारती जी,
    हम्मर सुझाव ई हइ कि मगही ई-पत्रिका के अलगे ब्लॉग बनावल जाय (जैसे - http://magahi-epatrika.blogspot.com)। ओकरा में सर-समाचार या आउ दोसर चीज नञ घुसावल जाय । मतलब कि ऊ ई-पत्रिका ही होवे के चाही । यथासम्भव बाकी मगही साहित्यकार सब के एकरा बारे परिचित करावे के चाही आउ एकरा लगि अप्रकाशित मगही रचना भेजे ल निवेदन करे के चाही ।
    शुभ कामना सहित
    नारायण प्रसाद

    उत्तर देंहटाएं